ब्लौग सेतु....

5 फ़रवरी 2018

मैं बदन बेचती हूँ--

Monday, November 1, 2010

मैं बदन बेचती हूँ--

मैं बदन बेचती हूँ--
उस औरत के तन का
कतरा-कतरा फुट बहा है 
तभी तो चीख-चीख कहती 
हाँ मै बदन बेचती हूँ 
अपनी तपिश बुझाने को नही 
पेट की भूख मिटाने को नही 
मै बेचती हूँ बदन ,हां बेचती हूँ मै 
भूख से बिलखते रोते -कलपते 
दो नन्हे बच्चो के लिए 
मैं अपनी लज्जा अपनी अस्मत बेचती हूँ 
छाती से दूध क्या 
लहू का एक कतरा तक 
न निकला सूखे होठो के लिए 
आँख के आंसू भी कम पड़े तो 
इन अबोध बच्चो की खातिर 
आपने सिने को गर्म सलाखों से भेदती हूँ 
हाँ मै बदन बेचती हूँ 
ठण्ड से ठिठुरते बदन पर 
धोती का इक टुकड़ा भर 
कैसे इन बच्चो को तन से चिपका रखा 
देखि नही किसी ने मेरी ममता 
नजर पड़ी तो बस 
फटे कपड़ो से झांकते 
मेरे जिस्मो बदन पर 
दौड़ पड़े सब पागल कुत्तो की तरह 
इनके पंजो से बचने की खातिर 
हवसी नजरो से बदन ढंकने की खातिर 
मै आँखों की पानी बेचती हूँ 
दर्द से कराहते बच्चो की खातिर 
हाँ मैं बदन बेचती हूँ 
पर इन सफ़ेदपोशो के जैसे 
अपने ज़मीर नही बेचती हूँ 
चाँद सिक्को की खातिर 
अपना ईमान नही तौलती हूँ 
कोई चोरी पाप नही कोई 
जहां के भूखे भेड़ों से बचने की खातिर
अपनी दौलत नीलाम करती हूँ 
इन मासूम बच्चो की दो रोटी की खातिर 
हाँ मै बदन बेचती हूँ 
आखिर हूँ तो एक माँ 
नही देख सकती बच्चो का दर्द 
नही सुन सकती उनकी चीत्कार 
उन्हें जीवन देने की खातिर 
खुद विषपान करती हूँ 
हाँ मैं बदन बेचती हूँ---
---पंकज भूषण पाठक "प्रियम "

4 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut sundar kavita.
    Mere blog par bhi aaiye
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  2. निमंत्रण :

    विशेष : आज 'सोमवार' १९ फरवरी २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच ऐसे ही एक व्यक्तित्व से आपका परिचय करवाने जा रहा है जो एक साहित्यिक पत्रिका 'साहित्य सुधा' के संपादक व स्वयं भी एक सशक्त लेखक के रूप में कई कीर्तिमान स्थापित कर चुके हैं। वर्तमान में अपनी पत्रिका 'साहित्य सुधा' के माध्यम से नवोदित लेखकों को एक उचित मंच प्रदान करने हेतु प्रतिबद्ध हैं। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' २६ फरवरी २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीय माड़भूषि रंगराज अयंगर जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।

    अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन। इस विषय पे कविता लिखना आसान नही है। बहुत बढ़िया लिखा। मैं Bही लिखती हु। वैश्यावृति पे मैन बजी लिखा ह।
    कृपया मेरा चैनल देखे ।

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...