ब्लौग सेतु....

20 जनवरी 2014

........ तेरे आने से -- रीना मौर्या



तेरे आने से रोशन मेरा जहाँ हो गया
तेरे प्यार से महकता आशियाँ हो गया .....
तेरी आदाएं कोमल तितली सी है
तेरे आने से मेरा जीवन गुलिस्ताँ हो गया....

रंग इतने लाई है तू जीवन में मेरे
की अब हर शमाँ रंगीन हो गया ....
सादगी तेरे व्यवहार की ऐसी मनमोहक है
की मै तो तुझमे ही खो गया .....

यूँ शुभ कदमों से तू मेरे घर आई है
की मेरा घर , अब घर नहीं जन्नत हो गया .....
भोर की पहली किरण के साथ ही 
तेरा मधुर आवाज में कृष्ण को पुकारना
मेरा मंदिर , मंदिर नहीं गोकुलधाम हो गया ......

हे प्रिय, हे गंगा, हे तुलसी, हे लक्ष्मी
और किस - किस नाम से पुकारूँ मै तुझे
तेरी भोली सीरत पर मै तो  फ़ना हो गया...
तेरे आने से रोशन मेरा जहाँ हो गया
तेरे प्यार से महकता आशियाँ हो गया ....!


-- रीना मौर्या




9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (21-01-2014) को "अपनी परेशानी मुझे दे दो" (चर्चा मंच-1499) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता मंच पर मेरी रचना शामिल करने का शुक्रिया
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खुबसूरत कविता है !भावपूर्ण है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. तेरे आने से रोशन मेरा जहाँ हो गया
    तेरे प्यार से महकता आशियाँ हो गया ...
    . यूँ ही महकता रहे आशियाँ ..
    बहुत सुन्दर प्यारी रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाब .. भावभीनी रचना .... प्रेम का एहसास लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम की खूबसूरती लिए सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक सच्ची कविता---
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...