ब्लौग सेतु....

31 मार्च 2014

वेग पधारो सिंहवाहिनी हम करते आवाहन












हे माता पर्वतवाली त्रस्त  भक्तगण आज।
कृपा करो हे माता दुखिया सकल समाज।।
तुमने जाने कितने राक्षस हे माता संहारे।
मानव तन ले उनमें कुछ हैं आन पधारे।।
ललनाओं की लाज लूटते,करते ये हत्याएं।
पापकर्म में इतने डूबे रही ना अब सीमाएं।।
भारतवासी त्रस्त बहुत हैं जपते तेरा नाम।
इनके चलते दुख भरे हैं उनके सुबहो शाम।।
हे मां अपने गणों संग अब तो वेग  पधारो।
दुष्टों से पीड़ित है धरती आकर उसे उबारो।।
नवरात्रि में भक्तगण करते हैं तेरा आराधन।
वेग पधारो सिंहवाहिऩी हम करते आवाहन।।
·       आप सभी को नवरात्र के पावन पर्व की मंगलकामनाएं



3 टिप्‍पणियां:

  1. आप को नवरात्र के पावन पर्व की मंगलकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर रचना...
    आपने लिखा....
    मैंने भी पढ़ा...
    हमारा प्रयास हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना...
    दिनांक 03/04/ 2014 की
    नयी पुरानी हलचल [हिंदी ब्लौग का एकमंच] पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...
    आप भी आना...औरों को बतलाना...हलचल में और भी बहुत कुछ है...
    हलचल में सभी का स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. नवरात्र की शुभकामनाएं......बहुत बढ़ि‍या लि‍खा...

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...