ब्लौग सेतु....

12 दिसंबर 2014

पवन बहे

सननन सननन पवन बहे,
घनन घनन घन गर्जन करे ।
हुलस-हुलस कर नाचे मनवा,
महके उपवन सुमन झरे ॥

                       बहकी कलियां महके फूल,
                       भंवरे के मन उठता शूल ॥
                       तितली रानी रंग भरे,
                       स्वर्णमयी लगती है धूल ॥

कोकिल केकी करें धमाल,
मस्तानी हिरणों की चाल ।
उड़ते पांखी गाएं गीत,
सूरज सब पर मले गुलाल ॥

                       झूमें लहरें हरियल खेत,
                       सोना बनकर निखरी रेत ।
                       रंग लाई मेहनत अब देखो,
                       धरती ने उमड़ाया हेत ॥

आज खुशी क्या ठिकाना
गाती है कुदरत खुद गाना ।
करवट ली किस्मत ने मेरी,
उपजी हैं फसलें भी नाना ॥

                       चारों और आशा ही आशा,
                       दूर कहीं भागी निराशा ।
                       मचला जाए मनवा मेरा,
                       मौसम भी बहका जरा सा ॥
                           


-    केशरीलाल स्वामी केशव

6 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. हार्दिक धन्यवाद कविता जी ...

      हटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (14-12-2014) को "धैर्य रख मधुमास भी तो आस पास है" (चर्चा-1827) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हृदय से आभार लें, प्यार लें, सत्कार लें !
      मुहब्बत वाले दिल का मुहब्बत भरा उपहार लें !!

      हटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...