ब्लौग सेतु....

16 दिसंबर 2014

खंडित साँसें -- साधना वैद


खुशियों का संसार सुहाना टूट गया,
जनम-जनम का बंधन पल में छूट गया,
जिसके नयनों में मीठे सपने रोपे थे
पलक मूँद वह जीवन साथी रूठ गया !
मन के देवालय की हर प्रतिमा खण्डित है ,
जीवन के उपवन की हर कलिका दण्डित  है,
जिसकी हर मंजिल में जीवन की साँसें थीं 
चूर-चूर हो शीशमहल वो टूट गया !


2 टिप्‍पणियां:

  1. Sundar prastutee yaha bhi padhare.......

    http://kahaniyadilse.blogspot.in/
    http://hindikavitamanch.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...