ब्लौग सेतु....

25 अगस्त 2015

आँखों की नीलामी ......मधुलिका पटेल


कल बाज़ार में बड़ा शोर था
किस बात का हल्ला चारों ओर था
क्या किया तुम्ने ?
मैने कहा - कल मैने अपनी आँखें
बड़े अच्छे दामों में बेच दी
ये मेरी हैसियत से ज़्यादा
बड़े -बड़े सपने देखा करती थी
इस ज़माने में दाल - रोटी कमाने में
हौसला परास्त हो जाता है
ये जब देखती है
रात का अंधकार काले साए
अबला नारी चीख पुकार
अपहरण हत्या और अत्याचार
तब ये लाल हो जाती है
लहू के रगं सी
इनके लाल होने से मैं बहुत डर जाता हूं
क्योंकि ज़ुबान बदं रखना और
मुट्ठी को भिचें रखना पड़ता है
कसकर
वरना जुनून सवार हो जाता है
हर एक को आँखों के रंग में रंगने का
मैं कब से सोच रहा था
की इनके लाल होने से पहले
इनको बेच दूँगा
इसलिए मैने चुपचाप सौदा कर लिया
पर सौदा आखों का था न
इसलिए बड़ा शोर था
अब नई आँखें हैं
पत्थरों की तरह
न सपनें देखती न दुनिया की हलचल !

लेखक परिचय -  मधुलिका पटेल 


12 टिप्‍पणियां:

  1. आप की लिखी ये रचना....
    26/08/2015 को लिंक की जाएगी...
    http://www.halchalwith5links.blogspot.com पर....


    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कविता मंच पर मेरी रचना को स्थान देने का बहुत-बहुत आभार ।

      हटाएं
  2. क्या खूब लिखा है.. लाजवाब......मधुलिका जी
    मुझे इतनी पसंद आई ब्लॉग पर ही ले आया

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आप का संजय जी ।

      हटाएं
  3. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (28.08.2015) को "सोच बनती है हकीक़त"(चर्चा अंक-2081) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आप का राजेन्द्र कुमार जी मेरी रचना को चर्चा अंक में स्थान देने का ।

      हटाएं
  4. मार्मिक किन्तु कटु सत्य ...ख्वाब..आँखे..यहाँ सब बिक जाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आँखों को पत्थर होना दुखद है. संवेदना मारनी नहीं चाहिए. सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...