ब्लौग सेतु....

22 अक्तूबर 2015

शरद पूर्णिमा पर विशेष...स्मृति आदित्य

















शरद की 
बादामी रात में 
नितांत अकेली 
मैं 
चांद देखा करती हूं 
तुम्हारी 
जरूरत कहां रह जाती है, 

चांद जो होता है 
मेरे पास 
'तुम-सा' 
पर मेरे साथ 
मुझे देखता 
मुझे सुनता 
मेरा चांद
तुम्हारी 
जरूरत कहां रह जाती है। 

ढूंढा करती हूं मैं 
सितारों को 
लेकिन 
मद्धिम रूप में उनकी 
बिसात कहां रह जाती है, 

कुछ-कुछ वैसे ही 
जैसे 
चांद हो जब 
साथ मेरे 
तो तुम्हारी 
जरूरत कहां रह जाती है।
-स्मृति आदित्य
फीचर एडीटर..वेब दुनिया


11 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी कविता-मंच पर आप का स्वागत है।
    आप को यहां देखकर अति हर्ष हुआ.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 26 अक्टूबर 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. विजयादशमी पर शुभकामनाऐं । सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जय मां हाटेशवरी....
    आप ने लिखा...
    कुठ लोगों ने ही पढ़ा...
    हमारा प्रयास है कि इसे सभी पढ़े...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना....
    दिनांक 26/10/2015 को रचना के महत्वपूर्ण अंश के साथ....
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर... लिंक की जा रही है...
    इस चर्चा में आप भी सादर आमंत्रित हैं...
    टिप्पणियों के माध्यम से आप के सुझावों का स्वागत है....
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    कुलदीप ठाकुर...


    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 09 जून 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर भावों का प्रस्फुटन।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  8. ढूंढा करती हूं मैं
    सितारों को
    लेकिन
    मद्धिम रूप में उनकी
    बिसात कहां रह जाती है,
    अतिसुन्दर! आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन को जब आधार मिल जाए,
    सासों को मिल जाए प्राण
    तब
    तुम्हारी जरूरत कहां रह जाती है.....

    आपकी रचना मन को छू गई....स्मृति जी।

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...