ब्लौग सेतु....

5 सितंबर 2016

तंज़….

तंज़….



कभी दरिया कभी सागर से लगते हैं
नैन पतझड़ से जब बरसते हैं ।
चश्म सजते हैं गुलाबी होकर
तुमको बेरंग बना बैठे हैं ।
रात आई है कितनी बन ठन के
चराग़ बिन जले ही जलते हैं ।
अलाव, सिसकियाँ खयालों की
जिनको ख़ामोशी में समोते हैं ।
उनके गेसू में फूल टेसू के
आग जंगल की आज लगते हैं ।

8 टिप्‍पणियां:

  1. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 06/09/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. धन्यवाद् यशोदा जी आपके बहुमूल्य समय एवम प्रोत्साहन के लिए.

      हटाएं
  3. बहुत खूब ... अच्छे हैं शेर आपकी ग़ज़ल के ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस कुछ ख़याल हैं दिल के आ गए.. आपके समय के लिए आपका धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. बस कुछ ख़याल हैं दिल के आ गए.. आपके समय के लिए आपका धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...