ब्लौग सेतु....

27 मई 2017

कोई और नहीं बस मैं!

क्योंकर अक्सर ऐसा होता है मैं होता हूँ ख़ुद  ही ख़ुद के साथ
कोई और नहीं बस मैं
लड़ता हूँ झगड़ता हूँ उलझता हूँ बस यूँ ही ख़ुद के साथ
कोई और नहीं बस मैं
एक बड़ा समंदर होता है जो चाँद निगलकर सोता है
उस आधे दिखते चाँद संग मैं भी डूबा करता हूँ
कोई और नहीं बस मैं
हर वक़्त मुझे जाने का एक खौफ सताया करता है
जलता हूँ बुझता हूँ डरता हूँ संभलता हूँ फिर डर से लड़ जाता हूँ
कोई और नहीं बस मैं 
ये दुनिया चलती रहती है कुछ कहती कुछ सुनती रहती है
लाख मलामत देती है पर मैं बेहया, बेशर्म, बेमुरव्वत हो जाता हूँ
कोई और नहीं बस मैं
कुछ नन्हे सफ़ेद कबूतर पाले हैं मैंने, ये उड़ते हैं गिर पड़ते हैं अभी छोटे हैं
इक रोज़ जब ये बड़े हो जायेंगे अपने पंख फड़फड़ाएंगे,
किसी बड़े मैदान में, खुले आसमान में ये उड़ते जायेंगे, ऊपर, और ऊपर , सबसे ऊपर
वो वहां से फिर किसी नन्हे कबूतर से ही नज़र आयेंगे,
उस रोज़ मैं आज़ाद हो जाऊँगा सुकून से जाऊँगा
कोई और नहीं बस मैं !

लव तोमर 

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 30 मई 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर भाव....
    आभार आप का कविता-मंच को सहियोग देने के लिये....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर भाव सुंदर शब्द रचना आदरणीय जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (30-05-2017) को
    "मानहानि कि अपमान में इजाफा" (चर्चा अंक-2636)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  5. सामवेदनाएँ हर बात का ज़िम्माख़ुद पे ही ले आती हैं ... भावपूर्ण रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये दुनिया चलती रहती है कुछ कहती कुछ सुनती रहती है
    लाख मलामत देती है पर मैं बेहया, बेशर्म, बेमुरव्वत हो जाता हूँ
    कोई और नहीं बस मैं
    इस चर -अचर संसार में सभी कृत्यों का जिम्मेदार भी केवल मैं ही हूँ सुन्दर पंक्तियाँ ! आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  7. ख़ुद का ख़ुद से ही संघर्ष श्रेष्ठता की ओर बढ़ते रहने का विचार है। अंतिम पंक्तियों में बहुत कुछ कह डाला है आपने। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...