18 मई 2017

तेवरी




|| तेवरी ||
बुझते सपनों को मिल साथी कुछ तो दो आकर नया
नव निर्माण चाहता भारत माँग रहा आधार नया |

नाम धर्म का ले भारत में जाने कितनी जान गईं
नफरत को दो प्रीति रीति का श्रीमान संसार नया |

भेद मिटें सब जात-पांत के प्रान्तवाद के स्वर टूटें
और न कर बैठे अरि हम पर सोच-समझकर वार नया |

बहुत झुलस ली भोली जनता भेद-भाव की आतिश में
और न रख जाये भेदों का अब दुश्मन अंगार नया |

उत्तर यदि होगा उत्तम तो जय-जयकार सुनायी दे
श्रीमान जनता को भाए सत्ता का अभिसार नया |

+रमेशराज

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...