ब्लौग सेतु....

26 अप्रैल 2016

II आओ चलो खो जाएँ II

                                                                  जलधि की तरंग  में 
जीवन की उमंग  में 
फूलों  के  रंग  में 
प्रीतम  के  संग  में 
II आओ चलो खो जाएँ  II
मधुर  संगीत  में 
प्यार  के  गीत  में 
दिल  के  मीत  में 
अपनों  की  जीत में 
II आओ चलो खो जाएँ  II
सैनिकों के बलिदान में 
बच्चों की मुस्कान  में 
गीता  के  ज्ञान  में 
भारत  महान  में 
II आओ चलो खो जाएँ  II
स्वदेश के  प्यार  में 
चाँद  के  दीदार  में 
दूसरों के परोपकार में 
सात्विक  आहार  में 
II आओ चलो खो जाएँ  II
सब  की  भलाई  में 
देश  की  सफाई  में 
जीवन की सच्चाई में 
समझ की गहरायी में 
II आओ चलो खो जाएँ  II
प्रकृति की सुरक्षा  में 
निर्बल  की  रक्षा  में 
सच्चाई की परीक्षा में 
जीवन  के  लक्ष्य  में 
II आओ चलो खो जाएँ  II

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर....एक संदेशमयी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (27-04-2016) को "हम किसी से कम नहीं" (चर्चा अंक-2325) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज की बुलेटिन जोहरा सहगल जी की जयंती और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...