ब्लौग सेतु....

16 नवंबर 2016

याद आया तो ज़रूर होगा !!

कभी प्रेम 
कभी रिश्ता कोई 
बन गया हमनवां जब 
तुमने जिंदगी को  
हँस के गले  लगाया 
तो ज़रूर होगा !
 ... 
मांगने पर भी 
जो मिल न पाया 
ऐसा कुछ छूटा हुआ 
बिछड़ा हुआ कभी न कभी 
याद आया तो ज़रूर होगा !!
 ... 
कोई शब्द जब कभी 
अपनेपन की स्याही लिए 
तेरा नाम लिखता हथेली पे 
तुमने चुराकर नज़रें 
वो नाम पुकारा 
तो ज़रूर होगा !!

लेखक परिचय - सदा 


5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 17 नवम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...