18 अप्रैल 2017

हर घर में नहीं आती लक्ष्मी +रमेशराज




हर घर में नहीं आती लक्ष्मी

+रमेशराज
---------------------------------------------------------------
दरिद्रता जीवन का सबसे बड़ा अभिशाप है। आदमी यदि दरिद्र हो तो उसे धन-प्राप्ति के लिये दूसरों के समक्ष याचना करनी पड़ती है। भिक्षा का सहारा लेना पड़ता है। धनहीन व्यक्ति को कोई भी सम्मान से नहीं देखता। धन के अभाव में न व्यक्ति अच्छा-सा मकान बनवा पाता है और न अपने बच्चों को उच्च शिक्षा दिला पाता है। धन नहीं तो घर में अशांति ही अशांति, कलह ही कलह, समस्याएँ ही समस्याएँ। धन नहीं तो प्रसन्न मन नहीं। धनाभाव आदमी के सिर्फ घाव ही घाव करता है। बीमार पड़ने पर अच्छे क्या, सामान्य चिकित्सालय में भी इलाज कराना दूभर।
इसीलिए धन प्रदान करने वाली देवी लक्ष्मी की पूजा-आराधना-उपासना-साधना करना आवश्यक है। पुराणों में वर्णन मिलता है कि जब समुद्रमन्थन से देवी लक्ष्मी प्रकट हुईं तो भगवान विष्णु के साथ उनका पारिग्रहण हुआ। भगवान विष्णु की प्रिया लक्ष्मी जिस किसी पर भी अपनी कृपा कर देती है, उसका जीवन में धन-वैभव से भर जाता है। जिस किसी पर भी लक्ष्मी की कृपा हो जाये, उसे सेठ-साहूकार, सरकारी अधिकारी, लोकप्रिय नेता या एक बड़ा व्यापार बनने में देर नहीं लगती। आलीशान भवनों, लक्जरी कारों का स्वामी बनाती है लक्ष्मी। सम्मान, शौर्य और यश दिलाती है लक्ष्मी।
पर काँटे का सवाल यह है कि किसके घर आती है लक्ष्मी? किस पर अपनी कृपा बरसाती है लक्ष्मी? कार्तिक मास की अमावस्या जो दीपोत्सव, दीपावली, दिवाली के नाम से जानी जाती है, इस दिन भगवती माँ लक्ष्मी का उत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। हर कोई बड़ी ही श्रद्धा के साथ रात्रि बेला में देवी लक्ष्मी का सपरिवार पूजन करता है। माँ लक्ष्मी से निवेदन करता है कि वह उसके घर पधारकर सदा के लिए वास करें। श्रद्धापूर्वक पूजन करने के बावजूद अनेक व्यक्ति देवी लक्ष्मी की कृपा को प्राप्त नहीं कर पाते। ऐसा आखिर क्यों होता है? माँ लक्ष्मी का वास हर किसी के घर में क्यों नहीं होता?
इसका उत्तर यह है कि जो लोग मेहनती, सद्बुद्धि से युक्त, फुर्तीले, अच्छी योजनाएं बनाने वाले, दूरदर्शी, सदाचारी और परोपकारी होते हैं, मां लक्ष्मी को वही प्रसन्न करने में सफल हो पाते हैं।
जिन परिवारों में पति-पत्नी के बीच कलह होती रहती है, उन परिवारों से लक्ष्मी कभी प्रसन्न नहीं होती और न उनके घर वास करती है। ऐसे परिवार माँ लक्ष्मी का चाहे जिस विधि-विधान से पूजन कर लें, किन्तु लक्ष्मी की कृपा से वंचित ही रहते हैं।
जुआरी, सट्टेबाज, चोर, देशद्रोही, अहंकारी, व्यभिचारी माँ लक्ष्मी की पूजन कितने भी मनोयोग से कर लें, लेकिन माँ उन पर दया नहीं करती। ऐसे व्यक्तियों के घर वे अपनी बड़ी बहिन दरिद्राको भेज देती हैं, जो उन्हें समय-समय पर धन की हानि ही नहीं दिलाती, उन्हें अपयश का भागीदार भी बना देती है। भारी अपमान करा देती है। कारा में डलवा देती है। अवैध कमायी पर गुलछर्रे उड़ाने वालों की मति पर बैठी देवी लक्ष्मी की बहिन दरिद्रा’  ऐसे व्यक्तियों से किसी न किसी दिन ऐसा कार्य जरूर करवा देती है जिससे उनकी सम्पूर्ण समाज में छवि धूमिल हो जाती है। कलमाणी, ए. राजा, रेड्डी बन्धु जैसे ख्याति प्राप्त और उच्च पदों पर बैठे व्यक्तियों का जो हश्र हुआ है, उसके मूल में माँ लक्ष्मी  का कोप और दरिद्रा का वास स्पष्ट देखा जा सकता है। जो लोग सदाचारी, मेहनती, देशभक्त, लोकमंगल की भावना से ओत-प्रोत और अच्छे योजनाकार होते हैं, ऐसे व्यक्त्यिों की पूजा-अर्चना ही माँ लक्ष्मी तक पहुँचती है। माँ ऐसे व्यक्त्यिों से ही प्रसन्न होकर उनके कारोबार में दिन-दूनी और रात चैगुनी वृद्धि करती है। मिलावटखोर, तस्कर और चोर अपनी जीवन का हर भोर अन्ततः अंधेरे में तब्दील कर लेते हैं। जबकि सदाचरण के मार्ग को अपनाने वाले व्यक्ति की आराधना से माँ इतनी प्रसन्न होती हैं कि उसे न कभी धन-हानि होती है न मान-हानि। सदाचारी पर माँ की कृपा का चक्र जीवन-भर चलता है जबकि दुराचारी माँ लक्ष्मी का भले ही अनन्य भक्त हो, उसे अंततः दरिद्राके साथ ही रहना पड़ता है।
----------------------------------------------------------
सम्पर्क- 15/109, ईसानगर, अलीगढ़
मोबा.- 9634551630


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...