ब्लौग सेतु....

29 दिसंबर 2016

आत्ममुग्ध-सा चला आ रहा है .....डॉ. सरस्वती माथुर


नदी-खेत-पोखर पर
चिड़िया-सा चहचहा रहा है

यह मंजुल प्रकाश भर
पंखड़ियों को धरा पर
बिखरा रहा है

जाफ़रानी हवाओं-सा
डाल-डाल. पात-पात पर
तितली-सा मंडरा रहा है

वसुधा में कर परिवर्तन
कोमल वत्सल-सा
शांत अविरल-सा
नदी, बादल
समुद्र, पहाड़ पर
ओस कण की
वंदनवार सजाकर
आत्ममुग्ध-सा
चला आ रहा है *

-डॉ. सरस्वती माथुर

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 30 दिसम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह, उजाले की आभा बिखराती सुंदर रचना..

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...