ब्लौग सेतु....

23 नवंबर 2015

अपना भारत आगे बढ़ रहा है.........हितेश कुमार शर्मा



DSC01255.JPG




लड़ी  होंगी  आज़ादी  की   कई  लड़ाईयां  हमारे   पूर्वजों  ने 
आज  तो  हर   इंसान  अपने  आप  से  लड़  रहा  है 
और  इसी  तरह  अपना  भारत  आगे  बढ़ रहा  है ii
कहीं  बिजली  और   पानी  के  लिए  हो  रही  लड़ाई 
और इन सब पर सीना ताने खड़ी है कमरतोड़ महंगाई 
एक  तरफ  भूख  से  बिलखते  लोग 
और  दूसरी   तरफ  अनाज  गोदामों मैं  सड़ रहा  है 
और  इसी  तरह  अपना  भारत  आगे  बढ़  रहा  है II
कोई  नहीं सुरक्षित  ,चाहे  सड़क  हो,  रेल  हो , या  हो  पैदल 
अपनों  से   धोखा, गैरों  से  सितम , है  सकते  में  हर  दिल ,
राह  में  राही,  हैं  आपस  में  भाई  भाई   का  नारा  हुआ  दूर 
अब  तो  अपनी  गलती  होने  पर  भी  दूसरे  पर  अकड़  रहा  है 
और  इसी  तरह  अपना  भारत  आगे  बढ़  रहा  है II
तन  पर  कपडा  नहीं ,पेट  में  रोटी  नहीं  और  नहीं  है  रहने  को  मकान ,
इस  आजाद  देश  में  भी  बन  कर  रह  गयें  हैं  गुलाम ,
और  दूसरी  तरफ  कोई  अपने  को  सोने  और  हीरे  से  जड़  रहा  है 
और  इसी  तरह  अपना  भारत  आगे  बढ़  रहा  है II
जहाँ  इंसानियत  और  सराफत  का  होता  नित्य  बलात्कार 
धरम , जाति  और मज़हब   के  लिए  मचा है  हाहाकार
रंगे हाथो  पकडे  जाने  पर  भी  ,दुसरो  पर  दोष  मड  रहा  है 
और  इसी  तरह  अपना  भारत  आगे  बढ़  रहा  है II
रिश्ते  महंगे  ,दोस्ती  म्हनंगी  और  हुई दुश्मनी सस्ती ,
इसी  रोग  से  सभी  ग्रस्त  हैं  क्या  शहर,  क्या  गाँव,  क्या  बस्ती 
प्रेम  की  किताब  से  हर  कोई  नफरत  की  भाषा  पढ़   रहा  है 
और  इसी  तरह  अपना  भारत  आगे  बढ़  रहा  है II
अपने  हित  के  लिए  क्यों  इंसान सब  को  बेगाना  कर  रहा  है 
तू  क्यों   करता  है  वो  सब  जो  सारा  जमाना  कर  रहा  है 
चार  दिन  की  जिंदगी  और  सालों  से  भटक  रहा  है 
और  इसी  तरह  अपना  भारत  आगे  बढ़  रहा  है II
थी  जो  गुलामी  की  अब  टूट  चुकी  हैं  वो  जंजीरें 
चंद  के  हाथों  से  लिखी  जाती  हैं  सरे  देश  की  तकदीरें 
और  पूरा  भारत  अब  इन्हिकी  मुठी  में  सिकुड़  रहा  है 
और  इसी  तरह  अपना  भारत  आगे  बढ़  रहा  है II
हितेश कुमार शर्मा 

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (24-11-2015) को "रास्ते में इम्तहान होता जरूर है, भारत आगे बढ़ रहा है" (चर्चा-अंक 2170) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 24 नवम्बबर 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार....

    उत्तर देंहटाएं
  4. ​​​​​​सुन्दर रचना ..........बधाई |
    ​​​​​​​​​​​​आप सभी का स्वागत है मेरे इस #ब्लॉग #हिन्दी #कविता #मंच के नये #पोस्ट #​असहिष्णुता पर | ब्लॉग पर आये और अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें |

    ​http://hindikavitamanch.blogspot.in/2015/11/intolerance-vs-tolerance.html​​

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...