ब्लौग सेतु....

5 नवंबर 2015

आज की दिवाली ............हितेश कुमार शर्मा

DSC01255.JPG


दिवाली  क्यों  मानते  हैं,  करो  ये  स्मरण 
उपहारों  की  चकाचौंध  में,  भूले  अपनापन 
हर एक करता है दिवाली का बेसब्री से  इंतज़ार 
मन  में  चाहत , कि  हो  उपहारों  की  बौछार 
उपहार देने की चाहत का ,एक  ही  है  उसूल 
उसकी कीमत से  कई गुना, करना  है  वसूल 
आधुनिक दिवाली  का क्या  हो  गया  है  स्वरुप 
दिखावे में है सौंदर्य और राम आदर्श  हुए करूप 
प्रभु राम की अयोध्या वापसी से हुआ था इसका      आगाज़ 
क्या आज की पीढ़ी को है इसका जरा  सा  अंदाज 
आज का बेटा  राम नहीं,  और न ही दरसरथ हुए बाप 
सत्य, मर्यादा ,और संस्कार हुए बीते दिनों की          बात 
धन  दौलत  के  लिए  ही  करते  लक्ष्मी  पूजा 
ये  सबका  भगवान  और  नहीं  कोई  दूजा 
इस शुभ पर्व का कुछ इस तरह हो रहा सत्यानास 
लेंन देंन के चक्कर में, राम नाम लगता है उपहास 
 
आओ इस बार की दिवाली कुछ अलग सी मनाये हम 
इस  मंगल  बेला   पर , प्रेम  दीप  जलायें  हम 
हितेश कुमार शर्मा 

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (06-11-2015) को "अब भगवान भी दौरे पर" (चर्चा अंक 2152) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. जय मां हाटेशवरी....
    आप ने लिखा...
    कुठ लोगों ने ही पढ़ा...
    हमारा प्रयास है कि इसे सभी पढ़े...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना....
    दिनांक 06/11/2015 को रचना के महत्वपूर्ण अंश के साथ....
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की जा रही है...
    इस हलचल में आप भी सादर आमंत्रित हैं...
    टिप्पणियों के माध्यम से आप के सुझावों का स्वागत है....
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    कुलदीप ठाकुर...


    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दीप पर्व पर सामयिक चिंतन प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!
    दीप पर्व की हार्दिक मंगलकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  5. दीप पर्व की हार्दिक मंगलकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी को भी दीपावली की बहुत बहुत सुबह कामनायें

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...