ब्लौग सेतु....

12 जून 2017

स्मृतियों का ताजमहल

समेटकर नयी पुरानी
नन्ही नन्हीं ख्वाहिशें,
कोमल अनछुए भाव
पाक मासूम एहसास,
कपट के चुभते काँटे
विश्वास के चंद चिथड़़े,
अवहेलना के अगूंज
बेरूखी से रूखे लफ्ज़,
और कुछ रेशमी सतरंगी
तितलियों से उड़ते ख्वाब,
बार बार मन के फूलों
पर बैठने को आतुर,
कोमल नाजुक खुशबू में
लिपटे हसीन लम्हे,
जिसे छूकर महकती है
दिल की बेरंग दिवारे,
जो कुछ भी मिला है
तुम्हारे साथ बिताये,
उन पलों को बाँधकर
वक्त की चादर में लपेट
नम पलकों से छूकर,
दफन कर दिया है
पत्थर के पिटारों में,
और मन के कोरे पन्नों
पर लिखी इबारत को
सजा दिया है भावहीन
खामोश संगमरमर के
स्पंदनविहीन महलों में,
जिसके खाली दीवारों पर
चीखती है उदासियाँ,
चाँदनी रातों में चाँद की
परछाईयों में बिसूरते है
सिसकते हुए जज्बात,
कुछ मौन संवेदनाएँ है
जिसमें तुम होकर भी
कहीं नहीं हो सकते हो,
खामोश वक्त ने बदल दिया
सारी यादों को मज़ार में,
बस कुछ फूल है इबादत के
नम दुआओं में पिरोये
जो हर दिन चढ़ाना नहीं भूलती
स्मृतियों के उस ताजमहल में।

       #श्वेता🍁

9 टिप्‍पणियां:

  1. दिनांक 13/06/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी इस चर्चा में सादर आमंत्रित हैं...
    आप की प्रतीक्षा रहेगी...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत आभार आपका कुलदीप जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्मृतियों के ताजमहल में श्वेता जी ने हमारे अंतःकरण में दबे हुए भावों का दरिया बहा दिया है। एहसासों का संग्रहालय है स्मृतियों का ताजमहल। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत आभार शुक्रिया रवींद्र जी आपकी उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया प्रेरित करती है।धन्यवाद बहुत सारा।

      हटाएं
  4. हर एक का अपना-अपना ताजमहल
    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी,कविता जी,बहुत आभार शुक्रिया आपका

      हटाएं
  5. हर कोई अपने अपने ताज महल सजाता है उसमें फूल चढ़ाता है ... भाव समर्पण की सुन्दर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...