ब्लौग सेतु....

29 अक्तूबर 2016

यादें-1

सुरमई सांझसोने सी थाली सा ढलता सूरज
तरह-तरह की आकृतियों से उड़ते पंछी
घरों से उठता धुँआ,
चूल्हों पे सिकती रोटियों की महक
गलियों में खेलते बच्चे
माँ की डाँटखाने की मीठी मनुहार
जाने कहाँ खो गए
एक दूसरे से आगे जाने की होड़
जिन्दगी की भागमभाग,
सब कुछ पा लेने की स्पर्धा मे
हम कुछ से कुछ और हो गए
अठखेलियाँ करता बचपन,
बादलों में तस्वीरें बनाने की कल्पना
जाने कहाँ रह गई
पछुआ पवनों की सिहरन,
बरखा की बूँदों की छम-छम सी हँसी
ना जाने कौन दिशा में बह गई
पूर्णिमा की सांझ,
मेरे साथ चलता चाँद
चाँद में चरखा कातती बुढ़िया,
नीम का पेड़
यादों में डूबा मन
रोशनी के उजालों मे,
भागती भीड़ में यातायात के जाम में
ना जाने कहाँ खो गया
शरद पूर्णिमा का चाँद,
चाँदनी में सुई पिरोने का सपना
इस शहर में आकर
कहीं मुँह ढक कर सो गया.


XXXXX

7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    दीप पर्व की शुभकामनाएँ
    स्वागत है आपका
    एक साथ प्रकाशन नहीं न करें
    प्रतिदिन एक करें
    सब पढ़ेंगे....
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ यशोदा जी.आपकी सलाह के लिए तहेदिल से शुक्रिया .

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 31 अक्टूबर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहेदिल से शुक्रिया यशोदा जी .

      हटाएं
    2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...