ब्लौग सेतु....

26 अक्तूबर 2016

रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत




क्या है 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' ?
-----------------------------------------
मित्रो !
     'नव कुंडलिया 'राज' छंद' , छंद शास्त्र और साहित्य-क्षेत्र  में मेरा एक अभिनव प्रयोग है | इस छंद की रचना करते हुए मैंने इसे १६-१६ मात्राओं के ६ चरणों में  बाँधा है, जिसके हर चरण में ८ मात्राओं  के उपरांत सामान्यतः (कुछ अपवादों को छोडकर ) आयी 'यति' इसे गति प्रदान करती है | पूरे छंद के ६ चरणों में ९६ मात्राओं का समावेश किया गया है |
      'नव कुंडलिया 'राज' छंद' की एक विशेषता यह भी है कि इसके प्रथम चरण के प्रारम्भिक 'कुछ शब्द' इसी छंद के अंतिम चरण के अंत में पुनः प्रकट होते हैं |  या इसका प्रथम चरण पलटी खाकर छंद का अंतिम चरण भी बन सकता है |
     छंद की दूसरी विशेषता यह है कि इस छंद के प्रत्येक चरण के 'कुछ अंतिम शब्द ' उससे आगे आने वाले चरण के प्रारम्भ में शोभायमान होकर चरण के कथ्य को ओजस बनाते हैं | शब्दों के इस प्रकार के दुहराव का यह क्रम सम्पूर्ण छंद के हर चरण में परिलक्षित होता है | इस प्रकार यह छंद 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' बन जाता है
   'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में मेरा उपनाम 'राज ' हो सकता है बहुत  से पाठकों के लिये एतराज का विषय बन जाए या किसी को इसमें मेरा अहंकार नज़र आये | इसके लिये विचार-विमर्श के सारे रास्ते खुले हैं |
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' पर आपकी प्रतिक्रियाओं का मकरंद इसे ओजस बनाने में सहायक सिद्ध होगा |                   ------रमेशराज


रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत

'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में बालगीत-1
-----------------------------------
" जल-संकट हो, अगर कटे वन
अगर कटे वन, सूखे सावन
सूखे सावन, सूखे भादों
सूखे भादों, खिले न सरसों
खिले न सरसों, रेत प्रकट हो
रेत प्रकट हो, जल-संकट हो | "      
              (रमेशराज )


 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में बालगीत-2
-----------------------------------
मत मरुथल को और बढ़ा तू
और बढ़ा तू मत गर्मी-लू,
मत गर्मी-लू, पेड़ बचा रे
पेड़ बचा रे, वृक्ष लगा रे,
वृक्ष लगा रे, तब ही जन्नत
तब ही जन्नत, तरु काटे मत  |      
              (रमेशराज )


'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में बालगीत-3
--------------------------------------
नटखट बन्दर  छत के ऊपर
छत के ऊपर , झांके  घर - घर
झांके  घर - घर , कहाँ माल है ?
कहाँ माल है ? कहाँ दाल है ?
कहाँ दाल है ? मैं खाऊँ झट
मैं खाऊँ झट , सोचे नटखट | "      
              (रमेशराज )


'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में बालगीत-4
-------------------------------------
" बबलू जी जब कुछ तुतलाकर
तुतलाकर बल खा इठलाकर ,
इठलाकर थोड़ा मुस्काते
मुस्काते या बात बनाते ,
बात बनाते तो हंसते सब
सब संग होते बबलू जी जब |                          
(रमेशराज )


'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में बालगीत-5
----------------------------------------
 " फूल - फूल पर तितली रानी
तितली रानी लगे सुहानी ,
लगे सुहानी इसे न पकड़ो
इसे न पकड़ो, ये जाती रो ,
ये जाती रो खेत - कूल पर
खेत - कूल पर फूल - फूल पर |                       
(रमेशराज )


'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में बालगीत-6
---------------------------------------
" बढ़ा प्रदूषण , खूब कटें  वन
खूब कटें  वन , धुंआ - धुँआ घन
धुंआ - धुँआ घन , जाल सड़क के
जाल सड़क के , मरुथल पसरे
मरुथल पसरे , तपता कण - कण
तपता कण - कण , बढ़ा प्रदूषण | "
(रमेशराज )


 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में बालगीत-7
----------------------------------
" बस्ता भारी लेकर बच्चा
लेकर बच्चा , सन्ग नाश्ता
सन्ग नाश्ता , पढ़ने जाये
पढ़ने जाये , पढ़ ना पाये
पढ़ ना पाये पुस्तक सारी
पुस्तक सारी , बस्ता भारी | " 

(रमेशराज )

-------------------------------------------
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, a अलीगढ़-202001
mo.-9634551630 


3 टिप्‍पणियां:

  1. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 27/10/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 27-10-2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2508 में दिया जाएगा ।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...