ब्लौग सेतु....

26 दिसंबर 2017

सतरंगी सँसार.....डॉ. इन्दिरा गुप्ता

अतरंगी सा रंग रहा 
सतरंगी सँसार 
सहस्त्र रंग का हो रहा 
निश दिन कारोबार ! 

हर रंग खिल खिल कहे 
काहे पँख पसारे नाय 
बेरंगी सँसार को 
पल मै रंग दे आय ! 

पवन बहे परवाज़ रंग 
नदी निरन्तरता नीर 
पाहन चढ़ चट्टान को 
रंग देते कर्मठ वीर ! 

दुख सुख और अवसाद के 
होते रंग हजार 
छाये जब सँतोष रंग 
सब मिल एक रंग बन जाये ! 
डॉ.इन्दिरा गुप्ता ✍

1 टिप्पणी:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन स्वतंत्रता सेनानी - ऊधम सिंह और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...